www.cspc.in   
 

 
 

 
 
The Official Website of Chhattisgarh State Pharmacy Council
 

फार्मेसी काउन्सिल ऑफ इण्डिया के अध्यक्ष, प्रोफेसर बी. सुरेश जी का
छत्तीसगढ़ आगमन, दिनाँक 01 फरवरी, 2013

   

अत्यन्त हर्ष का विषय है कि, फार्मेसी काउन्सिल ऑफ इण्डिया के अध्यक्ष, प्रोफेसर बी. सुरेश जी के छत्तीसगढ़ आगमन के विभिन्न कार्यक्रम के तहत, छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल द्वारा उनके आतिथ्य में दिनाँक 01 फरवरी, 2013 को होटल बेबीलोन में भव्य अभिनन्दन समारोह सायं 7:30 बजे से आयोजित किया गया । 

   
   
   
   
   
   

अभिनन्दन समारोह में मुख्य अतिथि प्रोफेसर बी. सुरेश जी के अलावा विशिप्ट अतिथि के रूप में डॉ0 शैलेन्द्र सर्राफ जी (पंडित रविशंकर विश्वविधालय के फार्मेसी विभाग के विभागाध्यक्ष तथा फार्मेसी काउन्सिल आफ इण्डिया के शासकीय सदस्य), डॉ स्वर्णलता सर्राफ (पंडित रविशंकर विश्वविधालय के फार्मेसी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर, एवम् पी.सी.आई. सदस्य), श्री सुभाष अग्रवाल (छत्तीसगढ़ केमिस्ट एवम् ड्रगिस्ट एसोसिशन के अध्यक्ष), डॉ0 पी. जी. श्रोत्रिय (सी.ई.ओ. एलाईट कन्सल्टेन्सी मुम्बई), एवम् प्रोफेसर विनोद दीक्षित (सेवानिवृत्त डायरेक्टर, फार्मेसी विभाग डॉ0 हरिशकर गौर विश्वविधालय सागर) की गरिमामयी उपस्थिति में छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल के सम्माननीय सदस्यों द्वारा सभी अतिथियों का पुप्पाहार से स्वागत करते हुए उन्हें स्टेट काउन्सिल की ओर से स्मृति चिन्ह, शाल एवम् श्रीफल भेंट स्वरूप प्रदान किया गया ।

अभिनन्दन समारोह में छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल के सदस्यों के अतिरिक्त छत्तीसगढ़ के विभिन्न फार्मेसी महाविद्यालयों के प्राचार्य एवम् संचालक, छत्तीसगढ़ केमिस्ट एवम् ड्रगिस्ट एसोसिएशन के पदाधिकारी तथा छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों के केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष एवम् सचिव की उपस्थिति में मुख्य अतिथि, फार्मेसी काउन्सिल आफ इण्डिया के अध्यक्ष प्रोफेसर बी. सुरेश जी ने छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल की पारदशिता पूर्ण कार्यप्रणाली की मुक्त कण्ठ से सराहना करते हुए कहा कि, सभी नवगठित राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल की कार्यप्रणाली सर्वोत्तम है तथा यह अकेली काउन्सिल है, जहाँ दो बार सदस्यों का निर्वाचन सम्पन्न हो चुका है । आगे उपने उद्बोधन में उन्होंने कहा कि फार्मासिस्टों को दवा के व्यापार को व्यापार न समझकर एक प्रोफेशन समझना होगा तथा समय के अनुसार अपने ज्ञान को अपग्रेड करते हुए समाज को उत्कृप्ट सेवा प्रदान करना होगा तथा फार्मासिस्टों को अपने फार्मासिस्ट होने पर गर्व महसूस करना चाहिए । इस प्रकार हमारे फार्मासिस्ट आगे आनी वाली बहुराप्ट्रीय दवा दुकानों की चुनौतियों का सामना कर सकेंगे । इस अवसर पर छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल द्वारा, फार्मेसी काउन्सिल आफ इण्डिया को भेजी जाने वाली अंशराशि का डिमान्ड ड्राफ्ट फार्मेसी काउन्सिल आफ इण्डिया के अध्यक्ष, प्रोफेसर बी. सुरेश को सौंपा गया ।

प्रोफेसर बी. सुरेश जी ने यह स्पप्ट किया कि छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल, विधिवत् फार्मेसी काउन्सिल ऑफ इण्डिया से सम्बध्द है एवम् मान्यता प्राप्त इकाई है । फार्मेसी काउन्सिल आफ इण्डिया के स्टेट प्रतिनिधि श्री अजय सिंह राजपूत जी का, मुख्य अतिथि प्रोफेसर बी. सुरेश से विशेष तौर पर परिचय कराया गया।

इस कार्यक्रम की अध्यक्षता छत्तीसगढ़ स्टेट फार्मेसी काउन्सिल के अध्यक्ष श्री भरत अजवानी ने मंच संचालन रजिस्ट्रार डॉ0 श्रीकान्त राजिमवाले ने तथा आभार प्रदर्शन उपाध्यक्ष श्री केशव दुबे ने किया।

   
<< Back Next >>